DVD का फुल फॉर्म क्या होता है? | जानिए इसकी पूरी जानकारी

डीवीडी फुल फॉर्म | DVD Full Form in Hindi

डीवीडी का फुल फॉर्म  डिजिटल वर्सटाइल डिस्क (Digital Versatile Disc) और उसे दोस्तों इसे Digital Video Disc (डिजिटल वीडियो डिस्क) के नाम से भी जाना जाता है।

कंप्यूटर में डीवीडी का फुल फॉर्म | DVD ka Full Form in computer

कंप्यूटर की भाषा अगर इसे देखें तो डीवीडी का फुल फॉर्म डिजिटल वर्सटाइल डिस्क (Digital Versatile Disc) और उसे दोस्तों इसे Digital Video Disc (डिजिटल वीडियो डिस्क) के नाम से भी जाना जाता है।

डीवीडी क्या है? | DVD kya Hai?

डीवीडी कभी-कभी “डिजिटल वर्सेटाइल डिस्क” या “डिजिटल वीडियो डिस्क” के रूप में समझाया जाता है. एक डिजिटल ऑप्टिकल डिस्क स्टोरेज प्रारूप है।

डीवीडी-वीडियो जापान में होम वीडियो वितरण का प्रमुख रूप बन गया जब यह पहली बार 1995 में बिक्री पर आया।

डीवीडी एक डिस्क है जिसका उपयोग उन सूचनाओं को संग्रहीत करने के लिए किया जाता है जिन्हें कंप्यूटर पढ़ सकता है।

यह कोई फ़िल्म, संगीत, टेलीविज़न कार्यक्रम या कंप्यूटर गेम हो सकता है।

डीवीडी कॉम्पैक्ट डिस्क की तरह दिखते हैं क्योंकि वे एक ही आकार के होते हैं लेकिन वे एक अलग तरीके से बहुत अधिक जानकारी संग्रहीत करते हैं।

डीवीडी की साइज कितनी होती है? | dvd and cd difference in hindiof DVD?

  • प्लास्टिक सब्सट्रेट, एल्यूमीनियम कोटिंग और प्लास्टिक कवर के साथ 12 सेमी डिस्क
  • 0.4 माइक्रोन चौड़े गड्ढे, 1.2 माइक्रोन की दूरी.
  • डेटा भंडारण क्षमता 4.7 जीबी.
  • दो तरफा, 2 स्तर/साइड शीर्ष स्तर आंशिक रूप से प्रतिबिंबित.
  • 8.5 जीबी (2 तरफा), 17 जीबी (2 लेवल, 2 तरफा) तक बढ़ाएं.

डीवीडी के गुण | DVD properties

  • ऑप्टिकल डिस्क स्टोरेज की वर्तमान पीढ़ी.
  • घरेलू मनोरंजन, कंप्यूटर और व्यावसायिक जानकारी शामिल करें।
  • सीडी, वीडियोटेप, लेजरडिस्क, सीडी रॉम और वीडियो गेम कार्ट्रिज को बदलना।
  • 4.7 जीबी स्टोरेज (17 जीबी तक संभव है).
  • गुणवत्ता (Quality) – डीवीडी वीडियो और ऑडियो की अच्छी गुणवत्ता के लिए प्रसिद्ध हैं, जिससे देखने या सुनने में आनंद आता है।
  • पुनरावृत्ति (Rewritability) – कुछ डीवीडी पुनरावृत्ति के लिए योग्य होती हैं, जिससे आप उन्हें बार-बार उपयोग कर सकते हैं।

डीवीडी के प्रकार क्या है? | What are the types of DVDs?

  1. वीडियो डीवीडी (Video DVD) –
    Video डीवीडी – जिनमें वीडियो सामग्री स्टोर होती है, जैसे कि फिल्में, टीवी शोज़, और वीडियो गेम्स। इनमें उच्च गुणवत्ता वाले वीडियो और ऑडियो होते हैं।
  2. ऑडियो डीवीडी (Audio DVD) –
    इस प्रकार की audio डीवीडी में ऑडियो सामग्री होती है, जैसे कि संगीत एल्बम्स या कॉन्सर्ट्स। यह उच्च गुणवत्ता में स्टीरियो साउंड प्रदान करती है।
  3. डेटा डीवीडी (Data DVD) –
    ये डीवीडी डेटा (data) स्टोर करने के लिए उपयोग होती हैं, जैसे कि फोटो, वीडियो, डॉक्यूमेंट्स, और सॉफ़्टवेयर। इन्हें कंप्यूटर फ़ाइलें सहेजने और साझा करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  4. पुनर्लेखनीय डीवीडी (Rewritable DVD) –
    इस प्रकार की डीवीडी को बार-बार लिखा जा सकता है और पुनर्लेखन के लिए उपयोग किया जा सकता है। यह डेटा को अपडेट करने और संपादित करने के लिए उपयोगी है।
  5. डीवीडी-रॉम (DVD-ROM) – 
    यह डीवीडी सिर्फ़ पढ़ने के लिए होती है और उसमें कोई नई जानकारी लिखी नहीं जा सकती है। इसमें सामान्यत: सॉफ़्टवेयर इंस्टॉल करने के लिए उपयोग होता है।

डीवीडी का इतिहास | History of DVD

डीवीडी का आविष्कार किसी एक व्यक्ति या कंपनी द्वारा नहीं किया गया था। तोशिबा, फिलिप्स, सोनी और मत्सुशिता इलेक्ट्रिक सभी ने डीवीडी बनाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली तकनीक विकसित करने में मदद की।

अग्रणी (leading) कंपनियों फिलिप्स, सोनी, तोशिबा और पैनासोनिक द्वारा 1995 के भीतर विकसित किया गया। नवंबर 1996 में जापान में तोशिबा.मार्च 1997 में यू.एस.अक्टूबर 1998 में यूरोप.

कई अलग-अलग प्रकार की डीवीडी डिस्क, जैसे डीवीडी-रोम, डीवीडी-आर, डीवीडी-आरडब्ल्यू और डीवीडी-रैम.मानक (standard) डीवीडी – 4.7 जीबी.

डाटा स्टोर करने की क्षमता के आधार पर डीवीडी के प्रकार

बाजार में कई तरह के डिजिटल डिस्क स्टोरेज (डीवीडी) उपलब्ध हैं, लेकिन अगर डीवीडी में डेटा स्टोर करने की क्षमता के आधार पर देखा जाए तो डीवीडी को मुख्य रूप से 4 प्रकारों में बांटा गया है।

निचे मुख्य 4 प्रकार इस प्रकार दिए गए हैं –

  1. Single Sided and Single Layer DVD | सिंगल साइडेड और सिंगल लेयर डीवीडी
  2. Single Sided and Double Layer DVD | सिंगल साइडेड और डबल लेयर डीवीडी
  3. Double Sided and Single Layer DVD | डबल साइडेड और सिंगल लेयर डीवीडी
  4. Double Sided and Double Layer DVD | डबल साइडेड और डबल लेयर डीवीडी

1. Single Sided and Single Layer DVD | सिंगल साइडेड और सिंगल लेयर डीवीडी

सिंगल साइडेड और सिंगल लेयर डीवीडी का मतलब है कि यह डीवीडी एक ही ओर से डेटा पढ़ने और लिखने की क्षमता रखता है, और इसमें केवल एक ही पत्ती (लेयर) होती है।इस मे आसानी से 4.7 GB (गीगाबाइट) डेटा तक स्टोर कर सकते हैं।

2. Single Sided and Double Layer DVD | सिंगल साइडेड और डबल लेयर डीवीडी

इस डीवीडी की सतह एक ही ओर से होती है, लेकिन इसमें दो पत्तियां होती हैं जो कि एक के ऊपर दूसरी की तरफ होती हैं। इससे डेटा को दोनों पत्तियों पर संग्रहित किया जा सकता है, जिससे डेटा की अधिक मात्रा में संग्रहण हो सकती है।इस में, आप आसानी से 8.5 GB से 8.7 GB तक डेटा स्टोर कर सकते हैं।

3. Double Sided and Single Layer DVD | डबल साइडेड और सिंगल लेयर डीवीडी

इस डीवीडी की सतह दोनों ओर से होती है, और आप इसमें डेटा दोनों ओर से पढ़ा और लिखा सकते हैं। लेकिन, यह डीवीडी केवल एक ही पत्ती पर होती है, जिससे इसमें सिर्फ एक ही पर्याप्त स्थान होता है डेटा संग्रहित करने के लिए। 9.4 GB (गीगाबाइट) डेटा तक आसानी से स्टोर कर सकते हैं।

4. Double Sided and Double Layer DVD | डबल साइडेड और डबल लेयर डीवीडी

इस डीवीडी की सतह दोनों ओर से होती है, और आप इसमें डेटा दोनों ओर से पढ़ा और लिखा सकते हैं। साथ ही, इसमें दो पत्तियां होती हैं, जिससे डेटा (data) को ज्यादा से ज्यादा संग्रहित किया जा सकता है।

इस तरह की डीवीडी का उपयोग ज्यादातर बड़े डेटा या वीडियो फाइल्स को संग्रहित करने के लिए किया जाता है, क्योंकि इसमें ज्यादा स्थान होता है डेटा (data) स्टोर करने के लिए। इसमें 17.08 गीगाबाइट डेटा तक स्टोर कर सकते हैं।

डीवीडी प्लेयर क्या है? | What is a DVD Player?

DVD player
DVD Player

डिजिटल वर्सेटाइल डिस्क या डिजिटल वीडियो डिस्क जिसे आमतौर पर डीवीडी के रूप में जाना जाता है, का उपयोग डिजिटल ऑप्टिकल डिस्क स्टोरेज के लिए किया जाता है

डीवीडी प्लेयर एक उपकरण है जो डीवीडी-वीडियो और डीवीडी-ऑडियो तकनीकी मानकों, दो अलग-अलग और असंगत मानकों के तहत निर्मित डिस्क चलाता है।

डीवीडी सामग्री को देखने के लिए डीवीडी प्लेयर को टेलीविजन से जोड़ा जाता है, जो एक फिल्म, एक रिकॉर्डेड टीवी शो या अन्य सामग्री हो सकती है।

इसके अतिरिक्त, अधिकांश डीवीडी प्लेयर उपयोगकर्ताओं को ऑडियो सीडी (सीडी-डीए, एमपी3, आदि) और वीडियो सीडी (वीसीडी) चलाने की अनुमति देते हैं।

कुछ में होम सिनेमा डिकोडर (यानी डॉल्बी डिजिटल, डिजिटल थिएटर सिस्टम्स (डीटीएस)) शामिल हैं। कुछ नए उपकरण इंटरनेट में लोकप्रिय MPEG-4 ASP वीडियो संपीड़न प्रारूप (जैसे DivX) में भी वीडियो चलाते हैं।

डीवीडी प्लेयर के भाग | Parts of DVD player

1) Optical system (ऑप्टिकल सिस्टम) –

ऑप्टिकल प्रणाली में मुख्य रूप से लेजर बीम, लेंस, प्रिज्म, फोटो-डिटेक्टर और दर्पण भी शामिल हैं। इस तंत्र का आउटपुट डिस्क-ड्राइव के लिए इनपुट होगा। लेज़र बीम एक लाल लेज़र (laser) डायोड होगा जो 600 नैनोमीटर की तरंग दैर्ध्य पर काम करता है।

2) Disc drive mechanism (डिस्क ड्राइव तंत्र) –

डिस्क ड्राइव तंत्र में एक मोटर होती है जो डिस्क (disk) को गोलाकार गति में चलाएगी। तंत्र में एक डिस्क फ़ीड भी होगी – एक लोडिंग ट्रे जिसका उपयोग उपयोगकर्ता से डीवीडी स्वीकार करने के लिए किया जाता है। इस प्रकार संपूर्ण डिस्क ड्राइव मूल रूप से एक स्पिंडल है जो डिस्क को रखती है और एक मोटर है जिसका उपयोग डिस्क को घेरने के लिए किया जाता है।

3) Printed Circuit Board (प्रिंटेड सर्किट बोर्ड) –

सभी आईसी के प्रतिरोधों के साथ-साथ कैपेसिटर के सही स्थान के साथ पीसीबी (PCB) पर इलेक्ट्रॉनिक रूपरेखा तैयार की जानी चाहिए। रूपरेखा तैयार होने के बाद, घटकों को उनके संबंधित स्थानों पर मिलाया जाना चाहिए। इलेक्ट्रॉनिक सर्किट के सभी प्राथमिक घटक सिलिकॉन से बने होने चाहिए।

डीवीडी प्लेयर का कार्य करना | Working of DVD player

ऑप्टिकल सिस्टम डीवीडी से डेटा (data) को डिजिटल कोड में परिवर्तित करने में मदद करता है।

फिर बाइनरी सिग्नल (Binary signal) को डिजिटल से एनालॉग कनवर्टर में भेजा जाता है जिसे पीसीबी में सेटअप किया जाएगा। इस प्रकार डीवीडी का संगत एनालॉग सिग्नल प्राप्त होता है।

पीसीबी (PCB) में एम्पलीफायर भी होते हैं जो सिग्नल को बढ़ाते हैं और फिर इसे कंप्यूटर/टीवी के ग्राफिक और ऑडियो सिस्टम पर भेजते हैं। इस प्रकार, संबंधित ऑडियो/वीडियो सिग्नल प्राप्त होता है।

डीवीडी का उपयोग करते समय सावधानियाँ | Precautions while using DVD

  1. साफ और सुरक्षित सतह | Clean and Safe Surface –डीवीडी (DVD) की सतह को बिना साफ करें, धूप और धूल के कारण यह डेटा पढ़ने में कठिनाई पैदा कर सकता है। सतह को सॉफ्ट कपड़े से साफ करें और कभी भी खुराक करें नहीं।
  2. सही रैक और प्लेयर का उपयोग | Correct rack and player use – डीवीडी प्लेयर का सही तरीके से उपयोग करें और डीवीडी को खोलने और बंद करने के लिए सही रैक का उपयोग करें।
  3. उचित स्थान पर रखें | Keep in a proper location – डीवीडी को बालकनी या सीधे सूर्य के तेज दृष्टि से बचाएं, क्योंकि यह उसमें हीट का कारण बन सकता है और डेटा को क्षति पहुंचा सकती है।
  4. धरातल पर रखें | Place on the surface – डीवीडी को सीधे प्लेयर के स्लॉट में डालने से पहले सुनिश्चित करें कि यह साफ और किसी प्रकार के कीटाणु मुक्त है।
  5. बच्चों से दूर रखें | Keep away from children – बच्चों से डीवीडी को दूर रखें, क्योंकि उनकी खिलवारी से इसमें क्षति हो सकती है और उनके हाथों में छूने से इसमें अंशों को नुकसान पहुंच सकता है।
  6. कभी भी अज्ञात डिस्क को मत चलाएं | Never play an unknown disc – अगर डीवीडी अज्ञात है या इसमें किसी प्रकार का खारिज चीज़ है, तो उसे प्लेयर में न डालें। ऐसी डिस्क का उपयोग करना आपके प्लेयर को और डेटा को नुकसान पहुंचा सकता है।

डीवीडी के लाभ | Benefits of DVD

यहां डीवीडी के कुछ मुख्य लाभ दिए गए हैं –

  1. मनोरंजन का स्रोत | Source of Entertainment – डीवीडी एक अच्छा माध्यम है जिससे हम अपने घर में मनोरंजन का आनंद उठा सकते हैं। इसमें फिल्में, गाने, टीवी शोज (TV shows), और अन्य कार्यक्रम होते हैं जो हमें विभिन्न प्रकार की मनोहर दुनियाओं में ले जाते हैं।
  2. शिक्षाप्रद माध्यम | Educational medium – डीवीडी शिक्षा का भी एक महत्वपूर्ण साधन है। इसमें विभिन्न विषयों पर शिक्षाप्रद वीडियो, डॉक्युमेंट्रीज, और शिक्षा संबंधित सामग्री होती है जो छात्रों और शिक्षार्थियों को समझाने में मदद करती है।
  3. स्थायी स्मृति के लिए उपयोगी | Useful for permanent memory – डीवीडी आपके आपके पसंदीदा फिल्में, गीत, और टीवी शोज को स्थायी रूप से संग्रहित करने का एक अच्छा तरीका है। इससे आप उन्हें बार-बार देख सकते हैं और स्मृति में सुरक्षित रख सकते हैं।
  4. कार्यालय और शिक्षण के लिए उपयोगी | Useful for office and teaching – डीवीडी का उपयोग व्यावासिक सेटिंग्स और शिक्षा के क्षेत्र में भी होता है। प्रशिक्षण और प्रशिक्षण सत्रों के दौरान, डीवीडी सामग्री और वीडियो बनाने में सहायक हो सकता है।

डीवीडी के दुष्प्रभाव | Drawbacks of DVD

सीमित क्षमता (Limited Capacity) – डीवीडी की क्षमता में सीमाएँ होती हैं, जिससे इसमें सीधे और ज्यादा डेटा संग्रहित करना मुश्किल है। बड़ी फ़ाइलें या लंबी फिल्में को एक ही डीवीडी पर संग्रहित करना मुश्किल हो सकता है।

उत्पादों की अलग-अलग प्रकृति (Variant nature of products) – कुछ डीवीडी फॉर्मेट्स और प्लेयर्स अलग-अलग प्रकार के होते हैं, जिसके कारण कुछ डीवीडी प्लेयर्स कुछ विशेष फॉर्मेट्स को सपोर्ट नहीं कर सकते। इसके कारण यह सामग्री समझाने में कठिनाई पैदा हो सकती है।

फिजिकल स्टोरेज (Physical storage) – डीवीडी फिजिकल मीडिया होता है, जिससे उसके साथ रखने और स्टोर करने में समस्याएँ हो सकती हैं। इन्हें सुरक्षित रखने के लिए सावधानी बरतनी पड़ती है ताकि किसी भी प्रकार की चोट या धूप के कारण इसमें कोई क्षति ना हो।

संगीत और चलचित्र का ऑनलाइन स्ट्रीमिंग (Online Streaming of Music and Movies) – आजकल कई स्थानों पर ऑनलाइन स्ट्रीमिंग सेवाएं हैं जो बिना फिजिकल डिस्क के ही फिल्में और संगीत प्रदान करती हैं, जिससे डीवीडी का उपयोग कम हो रहा है।

ज्यादा स्थान लेने की जरूरत (Requires more space) – बड़ी संख्या में डीवीडी को स्टोर करने के लिए अधिक स्थान की आवश्यकता होती है, खासकर जब हम बहुत सारे डेटा या फ़िल्में रखना चाहते हैं।

डीवीडी के स्पेसिफिकेशन | DVD specifications

हम यह समझ सकते हैं कि वह कैसी है और हम उससे कौन-कौन सी चीज़ें कर सकते हैं।

  1. क्षमता (Capacity): यह बताता है कि डीवीडी में कितना डेटा स्टोर हो सकता है, एक डीवीडी की क्षमता 17 गीगाबाइट (GB) तक हो सकती है। जिसे हम फिल्में, गाने, या अन्य फ़ाइलें स्टोर कर सकते हैं।
  2. प्रकार (Type): यह बताता है कि डीवीडी किस प्रकार का है, जैसे कि सिंगल साइडेड, डबल साइडेड, सिंगल लेयर, या डबल लेयर इत्यादि।
  3. गति (Speed): यह बताता है कि डीवीडी को प्लेयर में चलाने या डेटा कॉपी करने में कितनी गति से काम किया जा सकता है।डीवीडी ड्राइव के लिए मूल गति रेटिंग 1x है, जो 1,352.54 KB/ सेकंड है। यह 1x सीडी ड्राइव से लगभग नौ गुना तेज है, जो 150 KB/s पर डेटा स्थानांतरित करता है।
  4. फॉर्मेट (Format): डीवीडी का फॉर्मेट बताता है कि वह कैसे पढ़ा जा सकता है, जैसे कि DVD-R, DVD+R, DVD-RW, या DVD+RW।
  5. लेयर संरचना (Layer Structure): यह बताता है कि डीवीडी कितनी पत्तियों (लेयर्स) में बनी है और उसमें कैसे डेटा संरचित है।

सीडी और डीवीडी के बीच अंतर | Difference between CD and DVD in hindi

पैरामीटरसीडी (CD)डीवीडी (DVD)
पूरा नामकॉम्पैक्ट डिस्क – CDडिजिटल वर्सेटाइल डिस्क
क्षमता650 MB to 700 MB कम4.7 GB अधिक
प्रकारवीडियो (audio), ऑडियो (video), डेटा (data)वीडियो, ऑडियो, डेटा, गेम्स, सॉफ्टवेयर आदि
स्थायितालेखन के लिए आदर्शजीवनकाल लेखन या पुनर्लेखन के लिए उपयुक्त
गुणवत्तासाधारितअधिक गुणवत्ता, हाई-डेफिनिशन वीडियो और ऑडियो
मूल उपयोगसंगीत (song), डेटा स्टोरेज, सॉफ्टवेयरवीडियो डेटा, गेम्स (games), सॉफ्टवेयर, और हाई-क्वालिटी ऑडियो
रंगसोने के रंग (Silver)कहा जाता है कि इनकी पहचान लाल रंग से होती है

डीवीडी पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न | FAQ’s on DVD

1) डीवीडी क्या है और यह कैसे काम करता है?

उत्तर: डीवीडी, जिसे Digital Versatile Disc कहा जाता है, एक प्रकार का डिजिटल संग्रहण मीडिया है। यह एक छोटा सा डिस्क होता है जिसमें डिजिटल डेटा संग्रहित होती है, जैसे कि फिल्में, संगीत, या अन्य फाइलें। इसमें एक चमकीली सतह होती है जो डेटा को पढ़ने और लिखने के लिए इस्तेमाल होती है।

2) डीवीडी के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

उत्तर: डीवीडी के कई प्रकार हैं, जैसे कि सिंगल साइडेड, डबल साइडेड, सिंगल लेयर, और डबल लेयर। सिंगल साइडेड में डेटा केवल एक ओर से पढ़ा और लिखा जा सकता है, जबकि डबल साइडेड में दोनों ओरों से हो सकता है। सिंगल लेयर में एक ही पत्ती होती है, जबकि डबल लेयर में दो पत्तियां होती हैं, जो अधिक डेटा संग्रहित करने की क्षमता प्रदान करती हैं।

3) डीवीडी को सही तरीके से देखने के लिए कौन-कौन से डिवाइस होते हैं?

उत्तर: आप डीवीडी को अपने कंप्यूटर, डीवीडी प्लेयर, और बहुत से टीवीज़ पर देख सकते हैं। अगर आपके पास स्मार्ट टीवी है तो आप इसे उसमें सीधे चला सकते हैं, या फिर एक डीवीडी प्लेयर का उपयोग करके देख सकते हैं। कंप्यूटर के साथ जुड़ा हुआ एक डीवीडी ड्राइवर भी उपयोग कर सकते हैं।

आपने क्या सीखा | Summary

मुझे आशा है कि मैंने आप लोगों को DVD full form in hindi और (DVD kya hai?) के बारे में पूरी जानकारी दी और मुझे आशा है कि आप लोगों को DVD क्या है? के बारे में समझ आ गया होगा। यदि आपके मन में इस आर्टिकल को लेकर कोई भी संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तो इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं।

आपके ये विचार हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मौका देंगे। अगर आपको मेरी यह पोस्ट dvd ki full form हिंदी में पसंद आई या आपने इससे कुछ सीखा है तो कृपया अपनी खुशी और जिज्ञासा दिखाने के लिए इस पोस्ट को सोशल नेटवर्क जैसे फेसबुक, ट्विटर आदि पर शेयर करें।

इसे भी पढ़े CD ka Full Form | जानिए सीडी की जानकारी

Leave a Comment