Supercomputer क्या है? जानिए इसका उपयोग,प्रकार और इतिहास

Table of Contents

Supercomputer क्या है? | What is Supercomputer in Hindi?

सुपर कंप्यूटर क्या है | What is Supercomputer in Hindi? Supercomputer कंप्यूटर एक ऐसा उपकरण है जो हमारे दैनिक जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है। हम इसका उपयोग सूचना भंडारण, गणना और विभिन्न कार्यों के लिए करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कंप्यूटर विशेष रूप से क्या हैं? इसके प्रकार क्या हैं? और इसका इतिहास क्या है?

Supercomputer photo

supercomputer photo

What do we call a Supercomputer? | सुपर कंप्यूटर किसे कहते हैं?

कंप्यूटर का सामान्य नाम –

सबसे पहले, हम सभी कंप्यूटर के बारे में सुनते हैं और अक्सर उन्हें अलग-अलग नामों से जानते हैं, जैसे “कंप्यूटर” “लैपटॉप” या “स्मार्टफोन” ये कंप्यूटर सामान्य उपयोग के लिए डिज़ाइन किए गए हैं और हमारे रोजमर्रा के कार्यों के लिए उपयोग किए जाते हैं, जैसे ईमेल लिखना, Google पर खोज करना, फ़ोटो देखना और गेम खेलना।

सुपरकंप्यूटर की विशेषताएं –

लेकिन सुपर कंप्यूटर थोड़ा अलग होता है. इसका मुख्य उद्देश्य बहुत तेज़ गति से गणना करना है, जो वैज्ञानिक और अनुसंधान कार्यों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

सुपर कंप्यूटर के उदाहरण –

आप एक सुपर कंप्यूटर को एक बड़े हाथी के रूप में सोच सकते हैं, बहुत बड़ा और बहुत तेज़। इसकी गति इतनी तेज है कि जो काम सामान्य कंप्यूटर के लिए मुश्किल होता है उसे सुपर कंप्यूटर बिना किसी परेशानी के कर सकता है।

सुपर कंप्यूटर का उपयोग –

ये वैज्ञानिक और अनुसंधान कार्यों के लिए विशेष रूप से उपयोगी हैं। जैसे कि जलवायु मॉडलिंग, दवा डिजाइनिंग, जीनोमिक्स, और अन्य बड़ी परियोजनाएं जिनमें बड़ी मात्रा में गणना की आवश्यकता होती है।

इसके अलावा, ये कंप्यूटिंग परियोजनाओं, सुरक्षा कार्यों और बड़े संगठनों के लिए भी महत्वपूर्ण हैं।

इस प्रकार, “सुपर कंप्यूटर” एक विशेष प्रकार का कंप्यूटर है जो बेहद तेज़ और शक्तिशाली होता है और इसका उपयोग विशेष रूप से वैज्ञानिक और अनुसंधान कार्यों के लिए किया जाता है। इससे हमें विशेष रूप से बड़े और अधिक जटिल कार्यों को सरल बनाने में मदद मिलती है।

Introduction to Supercomputers | सुपर कंप्यूटर का परिचय

importance of computer | कंप्यूटर का महत्व – 

सबसे पहले बात करते हैं कंप्यूटर के महत्व के बारे में। जब भी आपने कंप्यूटर का इस्तेमाल किया होगा तो आप जानते होंगे कि यह हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है। आप इसे अपने स्मार्टफोन, लैपटॉप, टैबलेट और कई अन्य डिवाइस पर भी इस्तेमाल कर रहे होंगे। यह वाहनों से लेकर स्मार्ट घरों तक, हर जगह हम तक पहुंचता है।

Introduction to Supercomputer | सुपरकंप्यूटर का परिचय –

अब हम बात करेंगे “सुपर कंप्यूटर” के बारे में। जब हम कंप्यूटर की बात करते हैं तो हमारे दिमाग में उन छोटे डेस्कटॉप कंप्यूटर या लैपटॉप की छवि आती है, जिनका इस्तेमाल हम अक्सर अपने दैनिक कार्यों के लिए करते हैं।

लेकिन सुपर कंप्यूटर थोड़ा अलग होता है. इसका मुख्य उद्देश्य अत्यधिक तेज गति से गणना करना है। ये कंप्यूटर विशेष रूप से तेज़ होते हैं और जो कार्य कंप्यूटर के लिए कठिन होते हैं उन्हें सुपर कंप्यूटर द्वारा आसानी से किया जा सकता है।

सुपर कंप्यूटर का उपयोग विशेष रूप से वैज्ञानिक और अनुसंधान कार्यों में किया जाता है। ये कंप्यूटर जलवायु मॉडलिंग, जीनोमिक्स और नई दवाओं के डिजाइन जैसी बड़ी वैज्ञानिक परियोजनाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

इसके अलावा, ये कंप्यूटर कंप्यूटिंग परियोजनाओं, सुरक्षा कार्यों और बैंकों जैसे बड़े संगठनों के लिए भी महत्वपूर्ण हैं।

इसलिए, सुपर कंप्यूटर विशेष रूप से तकनीकी और वैज्ञानिक अनुसंधान के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण योगदान देते हैं, और हमारे दैनिक जीवन को बेहतर बनाने में भी मदद करते हैं।

Where is Supercomputer Used? | सुपर कंप्यूटर का प्रयोग कहाँ किया जाता है?

  1. वैज्ञानिक अनुसंधान –

  • सुपर कंप्यूटर का सबसे महत्वपूर्ण उपयोग वैज्ञानिक अनुसंधान में होता है।
  • जलवायु मॉडलिंग: इनका उपयोग मौसम की भविष्यवाणी और जलवायु परिवर्तन का अध्ययन करने में किया जाता है, जो लोगों को बड़ी आपदाओं से बचाने में मदद करता है।
  1. जीवन विज्ञान (जीनोमिक्स) –

  • जीवन विज्ञान के क्षेत्र में, सुपर कंप्यूटर जीनोमिक्स गणना करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  • इनके जरिए हम जीवों के जीनोम का विश्लेषण करते हैं, जिससे नई दवाओं का विकास होता है और बीमारियों के इलाज में सुधार होता है।
  1. अनोखी परियोजनाएँ और गणनाएँ –

  • सुपर कंप्यूटर का उपयोग कंप्यूटिंग परियोजनाओं, जैसे परमाणु विज्ञान, अंतरिक्ष अनुसंधान और औद्योगिक सिमुलेशन में भी किया जाता है।
  • ये कंप्यूटर प्रक्रिया को तेजी से पूरा करने में मदद करते हैं, जिससे नई तकनीकों का विकास होता है और उत्पादन में सुधार होता है।

History of Supercomputers | सुपर कंप्यूटर का इतिहास

सुपर कंप्यूटर के शुरुआती दिन –

सुपर कंप्यूटर का इतिहास बहुत दिलचस्प है. उनकी कहानी कंप्यूटिंग के शुरुआती दिनों में शुरू होती है।

1950-1960 का दशक: प्रारंभिक काल –

सुपर कंप्यूटर की उपस्थिति 1950 और 1960 के दशक में दर्ज की गई थी। इस समय कंप्यूटर विज्ञान के क्षेत्र में तेजी से विकास हुआ और पहली पीढ़ी के कंप्यूटर तैयार हुए जिनकी गति तो अधिक थी लेकिन आकार में बड़े थे।

1970-1980 का दशक: सुपर कंप्यूटर का परिचय –

सुपर कंप्यूटर का वास्तविक आगमन 1970 और 1980 के दशक में हुआ जब उन्हें अधिक गति और प्रकार के गणना कार्यों के लिए डिज़ाइन किया गया था। इस दौरान कई संगठनों और वैज्ञानिकों ने गहन गणना और वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए सुपर कंप्यूटर का उपयोग किया।

1990-आज: आधुनिक युग –

1990 के दशक में, सुपर कंप्यूटर और उनकी तकनीक लगातार विकसित होती रही और आज भी इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण बनी हुई है।

आज का युग: सुपर कंप्यूटर का महत्व –

आज, सुपर कंप्यूटर विज्ञान, जलवायु मॉडलिंग, जीनोमिक्स और औद्योगिक क्षेत्रों में तेजी से महत्वपूर्ण हो रहे हैं। ये हमें बड़ी और जटिल गणनाओं को संभावित से संभावित की ओर ले जाने और अग्रणी वैज्ञानिक अनुसंधान करने की अनुमति देते हैं।

भारत में सुपर कंप्यूटर का जनक कौन है?

भारतीय कंप्यूटर वैज्ञानिक विजय पांडुरंग भटकर को भारतीय सुपर कंप्यूटर के जनक के रूप में जाना जाता है। पद्म भूषण और महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार विजेता विजय भटकर ने भारत में सर्वोत्कृष्ट सुपरकंप्यूटर के विकास का नेतृत्व किया।

Types of Supercomputers | सुपर कंप्यूटर के प्रकार

सुपर कंप्यूटर विभिन्न प्रकार के होते हैं, और कुछ मुख्य प्रकार हैं:

  1. वेक्टर सुपर कंप्यूटर – Vector Supercomputers

  • ये कंप्यूटर आमतौर पर गति और प्रदर्शन में बहुत अच्छे होते हैं।
  • उपयोग: वैज्ञानिक अनुसंधान, मॉडलिंग और सिमुलेशन के लिए पसंदीदा।
  1. स्केलर सुपर कंप्यूटर – Scalar Supercomputers 

  • ये कंप्यूटर सामान्य गति से काम करते हैं और कार्य करते हैं।
  • उपयोग: विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए, जैसे डेटाबेस कार्य, वैज्ञानिक गणना और अनुसंधान
  1. व्यापक रूप से समानांतर सुपर कंप्यूटर – Massively Parallel Supercomputers

  • इन कंप्यूटरों को एकाधिक प्रोसेसर का उपयोग करके समानांतर गणना करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • उपयोग: मॉडलिंग, सिमुलेशन और डेटा विश्लेषण जैसे बड़े और जटिल कार्यों के लिए।
  1. जीपीयू सुपर कंप्यूटर – GPU Supercomputers

  • ये कंप्यूटर ग्राफ़िक्स प्रोसेसिंग यूनिट (जीपीयू) का उपयोग करते हैं, जो गणना के लिए अत्यधिक उपयोगी होते हैं।
  • उपयोग: वैज्ञानिक अनुसंधान, वीडियो गेम, मॉडलिंग और गतिशील गणना के लिए।
  1. क्वांटम सुपर कंप्यूटर – Quantum Supercomputers

  • ये नवीन कंप्यूटर हैं जो क्वांटम बिट्स का उपयोग करके काम करते हैं और गणना में बेहद तेज़ हैं।
  • उपयोग: बड़ी संख्या में गणना, डेटा विश्लेषण और कैंसर और औद्योगिक अनुसंधान के लिए।

सुपर कंप्यूटर के प्रकारों में गति, प्रदर्शन और सुविधाओं सहित अलग-अलग विशिष्टताएं और उपयोग होते हैं। ये प्रकार विभिन्न कार्यों और अनुसंधान के लिए उपयोगी होते हैं और विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उन्नति प्राप्त करने में मदद करते हैं।

सुपरकंप्यूटर्स में कौनसा Operating System इस्तेमाल होता है?

सुपर कंप्यूटर एक प्रकार के विशेष कंप्यूटर होते हैं, जिनका मुख्य उद्देश्य बड़ी और जटिल गणनाएँ करना होता है। ये अधिकतर विशेष ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ डिज़ाइन किए जाते हैं, जो उनके उद्देश्यों को पूरा करने में मदद करते हैं।

सुपर कंप्यूटर में उपयोग किए जाने वाले कुछ प्रमुख ऑपरेटिंग सिस्टम हैं:

Linux: यह एक मुफ़्त और आमतौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है जो आमतौर पर सुपर कंप्यूटर के लिए उपयोग किया जाता है। इसकी विशेष विशेषता यह है कि यह वैज्ञानिकों और डेवलपर्स द्वारा समर्थित है जो इसका उपयोग करना जानते हैं, जिससे यह सुपर कंप्यूटर के लिए बेहद लोकप्रिय हो गया है।

Cray UNICOS: यूनिकोस एक यूनिक्स-आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे विशेष रूप से क्रे सुपर कंप्यूटर के लिए डिज़ाइन किया गया है।

IBM AIX: AIX ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग ब्लू जीन सहित IBM के सुपर कंप्यूटरों के लिए किया जाता है।

UNICOS/lc: क्रे सुपर कंप्यूटर के लिए एक और UNICOS संस्करण है जिसे UNICOS/lc कहा जाता है।

ये ऑपरेटिंग सिस्टम सुपर कंप्यूटर की विशेषताओं और आवश्यकताओं से मिलते जुलते हैं और बड़े और जटिल गणना करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। इनका उपयोग विभिन्न वैज्ञानिक अनुसंधान, मॉडलिंग और सिमुलेशन कार्यों में किया जाता है जिनके लिए बड़ी गणना की आवश्यकता होती है।

Special Characteristics of Supercomputers |सुपर कंप्यूटर की विशेषता

  1. असाधारण गति – Exceptional Speed

  • सुपर कंप्यूटर की सबसे बड़ी विशेषता उनकी अत्यधिक गति है।
  • ये कंप्यूटर लाखों-करोड़ों गणनाएँ कुछ ही सेकंड में कर सकते हैं, जो अन्य कंप्यूटरों की तुलना में बहुत अधिक है।
  1. बड़े डेटा सेट को संभालना – Handling Large Data Sets

  • सुपर कंप्यूटर संभावित रूप से बड़े और जटिल डेटा सेट को संसाधित कर सकते हैं।
  • वे विभिन्न प्रकार के डेटा प्रोसेसिंग कार्यों, जैसे जलवायु मॉडलिंग, जीनोमिक्स और अन्य बड़ी डेटा परियोजनाओं के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।
  1. तीव्र प्रसंस्करण इकाइयाँ – Fast Processing Units

  • इन कंप्यूटरों में आमतौर पर तेज़ प्रोसेसिंग इकाइयाँ शामिल होती हैं, जिनका मुख्य कार्य गणना करना है।
  • इन प्रसंस्करण इकाइयों का उपयोग वैज्ञानिक अनुसंधान और सिमुलेशन जैसी बड़ी और गतिशील गणनाओं के लिए किया जाता है।
  1. पूरी तरह से समानांतर प्रसंस्करण – Fully Parallel Processing

  • सुपर कंप्यूटर में पूरी तरह से समानांतर प्रोसेसिंग की सुविधा होती है, जिसका अर्थ है कि वे एक साथ कई गणनाएं कर सकते हैं।
  • यह उन्हें अत्यधिक गति और प्रदर्शन प्रदान करता है, जो वैज्ञानिक अनुसंधान में महत्वपूर्ण है।
  1. विशिष्ट ऑपरेटिंग सिस्टम – Specialized Operating Systems

  • सुपर कंप्यूटर के लिए विशेष ऑपरेटिंग सिस्टम डिज़ाइन किए जाते हैं, जो उनकी विशेष आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करते हैं।
  • ये सिस्टम बड़ी और जटिल गणनाओं के लिए अत्यधिक कुशल हैं।

सुपर कंप्यूटर में ये विशेष गुण होते हैं, जो उन्हें बड़ी और जटिल गणना करने में सक्षम बनाते हैं और वैज्ञानिक अनुसंधान, जैसे जलवायु मॉडलिंग, जीनोमिक्स और अन्य बड़े और महत्वपूर्ण कार्यों के लिए महत्वपूर्ण होते हैं।

Cost of Supercomputers | सुपरकंप्यूटर की कीमत

  1. उच्च कंप्यूटिंग और गति की आवश्यकता – Need for High Computing and Speed

  • सुपर कंप्यूटर की मुख्य विशेषता यह है कि वे अत्यधिक गणनाएँ कर सकते हैं और बड़ी संख्या में गणनाएँ कुछ ही सेकंड में पूरी कर सकते हैं।
  • इसके लिए उन्हें उच्च-स्तरीय घटकों और प्रसंस्करण इकाइयों की आवश्यकता होती है, जो महंगी होती हैं।
  1. विशिष्ट डिजाइन और विकास – Specialized Design and Development

  • सुपर कंप्यूटर विशेष रूप से उनके उद्देश्यों के आधार पर डिज़ाइन किए गए हैं।
  • इनके लिए विशेष ऑपरेटिंग सिस्टम और हार्डवेयर की आवश्यकता होती है, जिन्हें डिज़ाइन और विकसित करना महंगा होता है।
  1. विशेषज्ञता और विशिष्ट घटक – Specialization and Specialized Components

  • सुपर कंप्यूटर में विशेष उपकरण और तकनीकी आवश्यकताएं होती हैं जिन्हें तैयार करने की आवश्यकता होती है।
  • इनके डिवाइस की कीमत इसलिए भी महंगी है क्योंकि ये उच्च गुणवत्ता और स्पीड के साथ आने चाहिए।
  1. ऊर्जा और रखरखाव लागत – Energy and Maintenance Costs

  • सुपर कंप्यूटर बहुत अधिक ऊर्जा का उपयोग करते हैं और इनका प्रबंधन और रखरखाव भी महंगा होता है।
  • इसके लिए विशेष बुनियादी ढांचे और ऊर्जा संचालन की आवश्यकता होती है, जिससे कीमतें बढ़ती हैं।
  1. अनुसंधान एवं विकास – Research and Development

  • सुपर कंप्यूटर की विशेषताओं के साथ-साथ उनके विकास के लिए अनुसंधान और विकास की आवश्यकता होती है।
  • इसके लिए विशेष रूप से धन और विशेषज्ञों की आवश्यकता होती है, जो महंगे भी होते हैं।

इन सभी कारणों से सुपर कंप्यूटर की लागत अधिक है। इनका उपयोग बड़ी और जटिल गणनाओं, वैज्ञानिक अनुसंधान, मॉडलिंग, सिमुलेशन और अन्य महत्वपूर्ण कार्यों के लिए किया जाता है जिनके लिए उच्च गति और गहन गणना की आवश्यकता होती है।

सुपरकंप्यूटर का हिंदी में मतलब | Supercomputer Meaning in Hindi

सुपरकंप्यूटर एक अंग्रेजी शब्द है, इसे हिंदी में महासंगणक कहा जाता है।

नॉर्मल कंप्यूटर और सुपरकम्प्युटर में क्या अंतर है | What is the difference between normal computer and supercomputer

Parameterनॉर्मल कंप्यूटर (Normal Computer)सुपरकंप्यूटर (Supercomputer)
कपैबिलिटी (Capability)सामान्य कंप्यूटर आमतौर पर रोज़ाना काम के लिए होते हैं, जैसे कि वेब ब्राउज़िंग, डॉक्यूमेंट शैलींकन, और गेमिंग।सुपरकंप्यूटर अत्यधिक गणना और गति की आवश्यकता होती है, और इन्हें बड़ी और जटिल गणनाओं के लिए डिज़ाइन किया जाता है, जैसे कि वैज्ञानिक अनुसंधान और मॉडलिंग।
स्पीड (Speed)नॉर्मल कंप्यूटरों की स्पीड उनके उद्देश्य के आधार पर विभिन्न हो सकती है, लेकिन आमतौर पर इसमें मीगाहर्ट्ज़ की आवश्यकता होती है।सुपरकंप्यूटरों की स्पीड अत्यधिक गति की होती है और वे बड़ी संख्या गणना को केवल सेकंडों में पूरा कर सकते हैं, जिनमें पेटाफ्लॉप्स का संचालन किया जा सकता है।
कंपोनेंट्स (Components)नॉर्मल कंप्यूटरों में सामान्य हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर कंपोनेंट्स होते हैं, जैसे कि प्रोसेसर, मेमरी, और ऑपरेटिंग सिस्टम।supercomputer के लिए विशेष ऑपरेटिंग सिस्टम और हार्डवेयर कंपोनेंट्स डिज़ाइन किए जाते हैं, जो उनकी विशेष आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करते हैं।
उपयोग (Use)नॉर्मल कंप्यूटर आमतौर पर रोज़ काम के लिए उपयोग होते हैं, जैसे कि व्यक्तिगत उपयोग, विश्वासी डेटा संग्रहण, और मनोरंजन।सुपरकंप्यूटर्स वैज्ञानिक अनुसंधान, गणना, मॉडलिंग, और सिमुलेशन के लिए उपयोग होते हैं, और इन्हें विशेष गणना कार्यों के लिए डिज़ाइन किया जाता है।
कीमत (Cost)नॉर्मल कंप्यूटर आमतौर पर उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं के हिसाब से अधिक उचित मूल्य पर होते हैं।सुपरकंप्यूटर की कीमत बहुत अधिक होती है, जो उनके उच्च गणना और तेज़तरीन प्रोसेसिंग क्षमता के कारण होता है।

भारत के सुपर कंप्यूटर का नाम

भारत में एक सुपर कंप्यूटर का नाम “प्रयास” है। “प्रयास” भारत का पहला पेटाफ्लॉप स्तर का supercomputer है और पुणे महानगर के पास ह्यूमनॉइड कंप्यूटिंग प्रयोगशाला (एचपीसी) में स्थित है। “प्रयास” का मुख्य उद्देश्य वैज्ञानिक और अनुसंधान कार्यों के लिए अत्यधिक गणना करना है।

FAQ’s | अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1) सुपर कंप्यूटर क्या है?

supercomputer एक बहुत ही शक्तिशाली कंप्यूटर है जिसका मुख्य उद्देश्य बड़ी और जटिल गणनाएँ करना है।

2) सुपर कंप्यूटर का उपयोग क्या है?

सुपर कंप्यूटर का उपयोग वैज्ञानिक अनुसंधान, मॉडलिंग, सिमुलेशन, जीनोमिक्स, मौसम पूर्वानुमान और अन्य बड़े और महत्वपूर्ण कार्यों के लिए किया जाता है।

3) सुपर कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं?

सुपर कंप्यूटर कई प्रकार के होते हैं, जैसे वेक्टर प्रोसेसिंग, मल्टी-कोर प्रोसेसिंग और जीपीयू-आधारित प्रोसेसिंग।

4) सुपर कंप्यूटर का इतिहास क्या है?

सुपर कंप्यूटर का इतिहास विज्ञान और कंप्यूटिंग में एक प्रगतिशील यात्रा को दर्शाता है, जिसमें पहले इस्तेमाल किए गए कंप्यूटरों की तुलना में गति और क्षमता में बड़े सुधार हुए हैं।

5) एक सुपर कंप्यूटर की कीमत कितनी होती है?

सुपर कंप्यूटर की लागत उनकी उच्च गणना शक्ति और तेज़ प्रसंस्करण शक्ति के कारण बहुत अधिक होती है। इनका उपयोग वैज्ञानिक अनुसंधान और महत्वपूर्ण गणनाओं के लिए किया जाता है जिनके लिए अत्यधिक गति और गणना की आवश्यकता होती है।

आपने क्या सीखा | Summary

मुझे आशा है कि मैंने आप लोगों को supercomputer क्या है (What is Supercomputer in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी दी और मुझे आशा है कि आप लोगों को supercomputer क्या है के बारे में समझ आ गया होगा। यदि आपके मन में इस आर्टिकल को लेकर कोई भी संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तो इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं।

आपके ये विचार हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मौका देंगे। अगर आपको मेरी यह पोस्ट supercomputer क्या है हिंदी में पसंद आई या आपने इससे कुछ सीखा है तो कृपया अपनी खुशी और जिज्ञासा दिखाने के लिए इस पोस्ट को सोशल नेटवर्क जैसे फेसबुक, ट्विटर आदि पर शेयर करें।

इसे भी पढ़े : YouTube से पैसे कैसे कमाएं

1 thought on “Supercomputer क्या है? जानिए इसका उपयोग,प्रकार और इतिहास”

Leave a Comment