IP Address क्या होता है? जानिए इसका उपयोग और प्रकार

IP Address

आईपी एड्रेस (IP address) का पूरा नाम इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस है।

IP Address क्या होता है?

एक IP address क्या होता है? इसे अपने घर के पते का डिजिटल संस्करण समझें। जिस प्रकार आपके घर का पता लोगों को आपके भौतिक स्थान का पता लगाने में मदद करता है, उसी प्रकार एक आईपी पता इंटरनेट पर उपकरणों के लिए काम करता है।

IP address का मतलब है कि यह एक नंबर है जो हर डिवाइस के पास होता है ताकि वह इंटरनेट का उपयोग कर सके। आप इसे एक डिजिटल पते के रूप में सोच सकते हैं जो इंटरनेट पर आपके डिवाइस को पहचानने में मदद करता है, जैसे आपका पता हमारे डाकिया को बताता है कि आपका पत्र कहां वितरित करना है।

यदि आप इसे और अधिक सरल शब्दों में समझना चाहते हैं, तो इसे एक वर्चुअल एड्रेस के रूप में समझें जो आपके कंप्यूटर, स्मार्टफोन या किसी भी ऑनलाइन डिवाइस से जुड़ा है ताकि यह इंटरनेट पर जा सके और वहां जा रहे डेटा को सही जगह भेज सके। पहुंचा सकता है.

जब आप किसी वेबसाइट पर जाते हैं या इंटरनेट पर कुछ करते हैं, तो आपका आईपी पता राउटर के माध्यम से साइबर दुनिया में आपकी यात्रा को निर्देशित करने में मदद करता है। इसे एक डाकिया के पते की तरह समझें, जो आपके पत्र या मेल को सही गोथा (रूट) तक पहुंचाने में बहुत मदद करता है।

इस प्रकार, आईपी एड्रेस हमारे डेटा के सही स्थान तक पहुंचने के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण है, जिससे हम इंटरनेट पर खोज कर सकते हैं, वेबसाइटों पर जा सकते हैं और विभिन्न ऑनलाइन गतिविधियों का आनंद ले सकते हैं।

IP Address का उपयोग | Use of IP Address

IP पतों के प्राथमिक उपयोगों पर चर्चा करते है|

नेटवर्किंग (Networking): IP address का उपयोग उपकरणों को इंटरनेट से और एक-दूसरे से जुड़ने में कैसे होता है?

इस बात पर विचार करें कि आपके आस-पास के लोगों से संवाद करने के लिए एक विशेष फ़ोन नंबर है। जब आप उन्हें कॉल करते हैं, तो वह नंबर उन्हें बताता है कि आपकी कॉल उनके पास जा रही है और वे आपकी बात सुन सकते हैं।

इसी तरह, आईपी एड्रेस आपके कंप्यूटर या स्मार्टफोन के लिए एक प्रकार का नंबर है जो इन उपकरणों को इंटरनेट से कनेक्ट करने और अन्य उपकरणों से बात करने की अनुमति देता है।

जब आप इंटरनेट पर कुछ खोजते हैं, किसी वेबसाइट पर जाते हैं, या ईमेल भेजते हैं, तो आपके डिवाइस का आईपी पता वेबसाइट के सर्वर पर प्रसारित हो जाता है।

इससे सर्वर को पता चलता है कि आप कौन हैं और आपका अनुरोध किस डिवाइस से आया है। फिर सर्वर उचित डेटा को आपके डिवाइस पर वापस भेजता है और आप जो खोज रहे थे वह आपकी स्क्रीन पर प्रदर्शित होता है।

इस तरह, आईपी एड्रेस उपकरणों को एक विशिष्ट तरीके से इंटरनेट से कनेक्ट करने में मदद करता है ताकि हम वेबसाइटों पर जा सकें, डेटा डाउनलोड कर सकें और अन्य ऑनलाइन कार्य कर सकें। यह नेटवर्किंग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो हम सभी को इंटरनेट पर एक साथ जुड़ने में मदद करता है।

सुरक्षा (Security): IP address और साइबर सुरक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका

1. सुरक्षा के लिए आईपी एड्रेस का उपयोग:

यहां आपके IP address का उपयोग यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि केवल वे डिवाइस जिन्हें आप स्वीकृत करते हैं, वे ही आपके नेटवर्क से कनेक्ट हो सकें। यह आपको अवांछित या दुर्भावनापूर्ण डेटा या हैकिंग से बचाता है।

2. साइबर सुरक्षा और IP address:

आपका IP address आपकी ऑनलाइन सुरक्षा के लिए पहचान का एक रूप हो सकता है। इसके जरिए ऑनलाइन धोखाधड़ी या साइबर हमले जैसी कई दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों को अंजाम दिया जाता है। साइबर सुरक्षा के लिए, आपके आईपी पते की गोपनीयता की सुरक्षा के लिए वीपीएन (वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क) जैसे टूल का उपयोग किया जा सकता है, जो आपके आईपी पते को छुपाता है और आपकी गतिविधियों को सुरक्षित बनाता है।

IP Address Assignment | आईपी एड्रेस असाइनमेंट

IP address assignment

नेटवर्क प्रशासकों को अपने नेटवर्क पर सिस्टम को आईपी पते निर्दिष्ट करने की आवश्यकता होती है। यह पता अद्वितीय होना चाहिए.

एक आईपी एड्रेस में दो भाग होते हैं, एक नेटवर्क पहचानकर्ता और एक होस्ट पहचानकर्ता।

किसी विशेष सबनेट पर सभी कंप्यूटरों में एक ही नेटवर्क पहचानकर्ता होगा लेकिन अलग-अलग होस्ट पहचानकर्ता होंगे।

इंटरनेट असाइन्ड अथॉरिटी (IANA) पते के किसी भी दोहराव से बचने के लिए नेटवर्क पहचानकर्ता निर्दिष्ट करता है।

आईपी एड्रेस क्लासेस | IP Address Classes

सभी IP address 32 bit लंबे होते हैं और आईपी हेडर के स्रोत पते और गंतव्य पता फ़ील्ड में उपयोग किए जाते हैं।

आईपी एड्रेस प्रारूप चित्र में दिखाया गया है। इसमें नेटवर्क आईडी और होस्ट आईडी नामक दो फ़ील्ड शामिल हैं।

होस्ट के लिए आईपी नंबर (address) नेटवर्क प्रशासक द्वारा निर्दिष्ट किए जाते हैं। इंटरनेट पर सार्वजनिक नेटवर्क के लिए, हमें नेटवर्क सूचना केंद्र द्वारा निर्दिष्ट नेटवर्क नंबर प्राप्त करने की आवश्यकता है।

एक आईपी एड्रेस में दो भाग होते हैं। पते का पहला भाग, जिसे नेटवर्क नंबर कहा जाता है, इंटरनेट पर एक नेटवर्क की पहचान करता है, और शेष भाग, जिसे होस्ट आईडी कहा जाता है, उस नेटवर्क पर एक व्यक्तिगत होस्ट की पहचान करता है।

IP Address Format | आईपी Address प्रारूप

IP-adddress-format-and-dotted-decimal-format
IP-adddress-format-and-dotted-decimal-format

32-bit आईपी पते को डॉट्स द्वारा अलग किए गए आठ बिट्स के समूहों में विभाजित किया गया है। जैसा कि ऊपर की छवि में दिखाया गया है, प्रत्येक 8-बिट समूह को उसके समकक्ष बाइनरी नंबर में परिवर्तित किया जाता है।

इस प्रकार प्रत्येक ऑक्टेट (8-bit) 0 से 255 तक मान ले सकता है। आईपी बिंदीदार दशमलव नोटेशन में 0.0.0.0 से 255.255.255.255 तक हो सकता है।

उदाहरण के लिए का आईपी पता (IP address)
1001 0001.00001010 00100010 00000011 को बिंदीदार दशमलव रूप में 145.10.34.3 के रूप में दर्शाया गया है।

IP format example
IP format example

आईपी एड्रेस क्लासेस | IP Address classes

IP पतों (address) को निम्नानुसार 5 प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है:

  1. Class A
  2. Class B
  3. Class C
  4. Class D
  5. Class E

1) Class A –

Class-A-IP-address-formats
Class A IP Address Formats
  • IP address के लिए उपयोग किया जाने वाला प्रारूप उपरोक्त छवि के अनुसार है, क्लास ए नेटवर्क के लिए आईपी पता छवि के ऊपर दिखाया गया है
  • जैसा कि ऊपर की छवि में दिखाया गया है, नेटवर्क फ़ील्ड 7 बिट लंबा है और होस्ट फ़ील्ड 24 बिट लंबा है। इसलिए नेटवर्क फ़ील्ड में 1 और 126 के बीच संख्याएँ हो सकती हैं।
  • लेकिन होस्ट संख्या 0.0.0.0 से 127.255.255.255 तक होगी।
  • इस प्रकार क्लास ए में 126 प्रकार के नेटवर्क और 17 मिलियन होस्ट हो सकते हैं।
  • पहले फ़ील्ड में पहला “0” पहचानता है कि यह क्लास ए नेटवर्क पता है।

2) Class B –

कक्षा बी पता प्रारूप छवि के नीचे दिखाया गया है

पहले दो फ़ील्ड नेटवर्क की पहचान करते हैं और पहले फ़ील्ड में संख्या 128 – 191 की सीमा में होनी चाहिए।

Class-B-formats
Class B Formats

क्लास बी नेटवर्क बड़े हैं। होस्ट संख्या 0.0 और 255.255 आरक्षित हैं, इसलिए क्लास बी नेटवर्क में 65,534 (216-2) होस्ट तक हो सकते हैं। 16,382 वर्ग बी पतों में से अधिकांश आवंटित कर दिए गए हैं।

पहला ब्लॉक 128.0.0.0 से 128.255.255.255 तक के पते को कवर करता है और अंतिम ब्लॉक 191.255.0.0 से 128.255.255.255 तक के पते को कवर करता है।
उदाहरण: 128.89.0.26, नेट पर होस्ट 0.26 के लिए 128.89।

3) Class C –

क्लास सी पता प्रारूप छवि के नीचे दिखाया गया है

क्लास सी में पहला ब्लॉक 192.0.0.0 से 192.0.0.255 तक के पते को कवर करता है और अंतिम ब्लॉक 223.255.255.0 से 223.255.255.255 तक के पते को कवर करता है।

Class-C-formats
Class C format

4) Class D –

कक्षा डी पता प्रारूप छवि के नीचे दिखाया गया है

Classs D Format
Class D format

क्लास डी प्रारूप प्रत्येक 254 होस्ट के साथ 2 मिलियन नेटवर्क की अनुमति देता है और क्लास डी प्रारूप मल्टीकास्ट की अनुमति देता है जिसमें एक एकल डेटाग्राम कई होस्ट को निर्देशित किया जाता है।

5) Class E –

नीचे दी गई छवि कक्षा ई पते के लिए पता प्रारूप दिखाती है। यह पता 11110 से शुरू होता है जो दर्शाता है कि यह इसके लिए आरक्षित है भविष्य का कार्य।

IP address class E
IP address for class E network

32-बिट (4-बाइट) नेटवर्क पते आमतौर पर बिंदीदार दशमलव नोटेशन में लिखे जाते हैं। इस नोटेशन में प्रत्येक 4-बाइट को 0 से 255 तक दशमलव में लिखा जाता है।

तो सबसे कम आईपी एड्रेस 0.0.0.0 है यानी सभी 32 बिट्स शून्य हैं और उच्चतम आईपी एड्रेस 255.255.255.255 है।

IP एड्रेस के संस्करण | IP Address Versions in Hindi

IPv4 (Internet Protocol version 4):

IPv4 और Ipv6 दो प्रकार के इंटरनेट प्रोटोकॉल हैं जिनका उपयोग डिवाइस इंटरनेट पर पहचानने और संचार करने के लिए करते हैं। इन दोनों प्रोटोकॉल के प्रतिच्छेदन का मतलब है कि इन्हें इंटरनेट की गति और सुरक्षा में सुधार के लिए डिज़ाइन किया गया है।

IPv4 संस्करण 4 को 1970 के दशक में विकसित किया गया था और इंटरनेट के शुरुआती दिनों से ही इसका मुख्य रूप से उपयोग किया जाता रहा है।

IPv4 पते 32-बिट बाइनरी संख्याओं से बने होते हैं, जैसे “192.168.1.1”। यहां, प्रत्येक बाइट दस दशमलव है, और इसका मतलब है कि IPv4 केवल लगभग 4.3 बिलियन अद्वितीय पतों का समर्थन कर सकता है।

IPv6 (Internet Protocol version 6):

IPv4 की सीमा का कारण यह है कि अब इसमें पतों की कमी हो रही है, और इससे IP पतों की कमी की समस्या उत्पन्न हो रही है।

IPv6 संस्करण 6 को 1990 के दशक के अंत में विकसित किया गया था और इसका मुख्य उद्देश्य इंटरनेट के विकास को संभालने में मदद करने के लिए अधिक अद्वितीय आईपी पते प्रदान करना था।

IPv6 पते 128-बिट बाइनरी संख्याओं से बने होते हैं, जैसे “2001:0db8:85a3:0000:0000:8a2e:0370:7334″। ये पते बहुत बड़े हैं और समय-समय पर बदल सकते हैं, जिससे इंटरनेट का विकास सुनिश्चित होता है।

IPv6 के पतों की संख्या यही कारण है कि इसकी सीमा के कारण हमें कभी भी IP पतों की कमी की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

IP एड्रेस के प्रकार | Types of IP Address

IP Address के दो प्रकार होते हैं.

1) Private IP Address

2) Public IP Address

1) Private IP Address

Private IP Address एक प्रकार का इंटरनेट पता है जो आपके घरेलू नेटवर्क के लिए आरक्षित है और इंटरनेट पर उपयोग नहीं किया जाता है। इसका मतलब यह है कि यह पता केवल आपके घरेलू नेटवर्क की दीवारों के अंदर ही मौजूद है और बाहरी इंटरनेट से इस तक पहुंच नहीं है।

यहां Private IP Address की कुछ मुख्य विशेषताएं दी गई हैं:

केवल इंट्रा-नेटवर्क उपयोग के लिए: निजी आईपी पते केवल आपके होम नेटवर्क पर मौजूद उपकरणों के लिए हैं और इंटरनेट पर किसी भी वेबसाइट के साथ संचार करने के लिए उपयोग नहीं किए जाते हैं।

सुरक्षा: इन पतों का उपयोग करने से आपके घरेलू नेटवर्क की सुरक्षा को बढ़ावा मिलता है क्योंकि वे इंटरनेट पर बाकी दुनिया से छिपे रहते हैं।

समर्पित पते: कुछ निजी आईपी पते विशिष्ट नेटवर्क से संबंधित होते हैं, जैसे कि 192.168.0.1 या 10.0.0.1, और इन पते का उपयोग होम नेटवर्क पर राउटर या डिवाइस की पहचान करने के लिए किया जाता है।

नेटवर्क-सक्षम: निजी आईपी पते का उपयोग आपके घरेलू नेटवर्क पर उपकरणों, जैसे कंप्यूटर, स्मार्टफोन और स्मार्ट टीवी के बीच संचार करने के लिए किया जाता है।

स्थिर या गतिशील: निजी आईपी पते या तो स्थायी हो सकते हैं (कभी-कभी किसी डिवाइस को सौंपा जाता है) या संक्रमणीय (जिसमें डिवाइस नेटवर्क पर समय-समय पर गतिशील रूप से एक प्राप्त करता है).

2) Public IP Address

Public IP Address एक प्रकार का इंटरनेट पता है जिसका उपयोग इंटरनेट पर उपकरणों की पहचान करने और दुनिया भर में संचार करने के लिए किया जाता है। यह पता आपके कंप्यूटर, स्मार्टफोन और अन्य उपकरणों को इंटरनेट से कनेक्ट करने और वेबसाइटों से डेटा डाउनलोड और अपलोड करने की अनुमति देता है।

यहां सार्वजनिक आईपी पते की कुछ मुख्य विशेषताएं दी गई हैं

वैश्विक पहचान: एक Public IP Address का उपयोग इंटरनेट पर वैश्विक स्तर पर उपकरणों की पहचान करने के लिए किया जाता है, जिससे उन्हें अन्य वेबसाइटों और सर्वरों के साथ संचार करने की अनुमति मिलती है।

वेबसाइट होस्टिंग: यदि आपके पास एक वेबसाइट है, तो आपको एक सार्वजनिक आईपी पते की आवश्यकता है ताकि लोग वेबसाइट तक पहुंच सकें।

सर्वर संचालन: बड़े सर्वर और नेटवर्क को एक सार्वजनिक आईपी पते की आवश्यकता होती है ताकि वे डेटा स्थानांतरित कर सकें और अन्य उपकरणों के साथ संचार कर सकें।

इंटरनेट प्रोटोकॉल: एक Public IP Address इंटरनेट प्रोटोकॉल का हिस्सा है जो उपकरणों को इंटरनेट से जोड़ता है और स्थान घटक के साथ डेटा भेजता है।

जीवनकाल और स्थायित्व: Public IP Address आपके इंटरनेट सेवा प्रदाता (आईएसपी) द्वारा सौंपा गया है और यह आपकी इंटरनेट सेवा से तब तक जुड़ा रहता है जब तक आप इसे बदलने का निर्णय नहीं लेते।

IP एड्रेस कैसे काम करता है? | How does an IP address work?

IP address एक प्रकार की पहचान है जिसका उपयोग इंटरनेट से जुड़े उपकरणों की पहचान करने के लिए किया जाता है। यह उपकरणों के बीच संचार संचालित करने का काम करता है और इंटरनेट के विश्वव्यापी नेटवर्क तक पहुंचने का एक साधन है। आईपी एड्रेस कैसे काम करता है:

1. आईपी एड्रेस असाइनमेंट

IP address किसी डिवाइस को उसके इंटरनेट सेवा प्रदाता (आईएसपी) द्वारा सौंपा जाता है। जब आप अपने घरेलू इंटरनेट कनेक्शन को सक्रिय करते हैं, तो आपका आईएसपी आपके राउटर या मॉडेम को एक आईपी पता निर्दिष्ट करता है। यह पता आपके इंटरनेट कनेक्शन से संबद्ध है और इसका उपयोग इंटरनेट पर डिवाइस की पहचान करने के लिए किया जाता है।

2. आईपी एड्रेस की पहचान

जब आप अपने डिवाइस से इंटरनेट पर किसी वेबसाइट या सर्वर से संचार करते हैं, तो आपका आईपी एड्रेस उस वेबसाइट या सर्वर पर प्रसारित हो जाता है। यह पता वास्तव में एक प्रकार का स्थान है जिसके माध्यम से आपका डिवाइस यह पहचान सकता है कि आप कहां से आए हैं और आपको किस प्रकार की सेवा प्रदान की जानी चाहिए।

3. डेटा ट्रांसमिशन

जब आप इंटरनेट पर कुछ भी करते हैं तो डेटा आपके डिवाइस से आईपी एड्रेस के जरिए इंटरनेट पर जाता है और फिर वहां से आपके डिवाइस के आईपी एड्रेस पर वापस आ जाता है। इस प्रकार, डेटा भेजना और प्राप्त करना जारी रहता है, जिससे वेबसाइटों से जानकारी डाउनलोड की जा सकती है और आपके द्वारा प्रदान किए गए डेटा का उपयोग किया जा सकता है।

4. सुरक्षा

आईपी एड्रेस आपके इंटरनेट कनेक्शन की सुरक्षा भी सुनिश्चित करता है। इसके माध्यम से, सुरक्षा उपाय उपयोगकर्ताओं को डेटा सुरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करते हैं, जिससे अनधिकृत पहुंच से बचा जा सकता है।

5. नेटवर्क प्रबंधन

नेटवर्क प्रबंधन में आईपी एड्रेस भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह नेटवर्क प्रशासकों को नेटवर्क पर उपकरणों को पहचानने और प्रबंधित करने में मदद करता है ताकि वे नेटवर्क की ताकत, सुरक्षा और संचालन सुनिश्चित कर सकें।

इस प्रकार, आईपी एड्रेस इंटरनेट के विश्वव्यापी नेटवर्क पर उपकरणों के बीच संचार को सुविधाजनक बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और हमें इंटरनेट का उपयोग करने में मदद करता है।

अपने कम्प्युटर या मोबाईल फोन का IP एड्रेस कैसे पता करें?

आपके कंप्यूटर या मोबाइल फोन का आईपी एड्रेस पता करने के कई तरीके हैं, उनमें से कुछ सामान्य और आसान तरीके इस प्रकार हैं:

  1. वेब ब्राउज का उपयोग करके:
  • आप अपना आईपी पता ढूंढने के लिए वेब ब्राउज़र का उपयोग कर सकते हैं।
  • एक खोलें और वेब ब्राउज़र में “मेरा आईपी क्या है” टाइप करें और एंटर दबाएँ।
  • इसके बाद आपका आईपी एड्रेस वेब पेज पर प्रदर्शित हो जाएगा।
  1. कंप्यूटर या मोबाइल फ़ोन की नेटवर्क सेटिंग:
  • कंप्यूटर या मोबाइल फोन की नेटवर्क सेटिंग्स पर जाएं (अधिकतर “नेटवर्क और इंटरनेट” या “वाई-फाई” अनुभाग में)।
  • वहां, आपका वर्तमान आईपी पता दिखाया जाएगा।
  1. कमांड प्रॉम्प्ट का उपयोग करना (विंडोज़):
  • “कमांड प्रॉम्प्ट” खोलें (स्टार्ट मेनू पर जाएं, “cmd” टाइप करें और एंटर दबाएं)।
  • विंडोज़ कमांड प्रॉम्प्ट में “ipconfig” टाइप करें और एंटर दबाएँ।
  • आपका आईपी पता “आईपीवी4 एड्रेस” के नीचे “आईपी एड्रेस” के रूप में प्रदर्शित होगा।
  • Windows Command Prompt द्वारा IP Address पता करना

Windows के Command Prompt का उपयोग करके आप आसानी से अपने कंप्यूटर का आईपी एड्रेस पता कर सकते हैं। यहां प्रक्रिया का चरण-दर-चरण विवरण दिया गया है:

       Command Prompt खोलें:

  • आपके कंप्यूटर के “Start” मेनू पर जाएं और “cmd” टाइप करें, फिर “Enter” दबाएं।
  • आपके स्क्रीन पर Command Prompt खुल जाएगा।

       IP Address पता करें:

  • Command Prompt में, “ipconfig” टाइप करें और “Enter” दबाएं।
  • आपके स्क्रीन पर कुछ जानकारी दिखाई देगी, लेकिन आपका ध्यान आईपी पता पर देना है।

      IP Address पहचानें:

  • Command Prompt की जानकारी में, आपको विभिन्न नेटवर्क जोन्स के नीचे “IPv4 Address” या “IP Address” दिखाई देगा। यह आपके कंप्यूटर का वर्तमान आईपी पता होता है।
  • आमतौर पर, आपका आईपी पता कुछ इस प्रकार होता है: XXX.XXX.XXX.XXX, जहां “X” डिजिट्स होते हैं।

       स्क्रीनशॉट (वैकल्पिक):

  • यदि आप अपने आईपी पते को सहेजना चाहते हैं, तो आप “ipconfig > ip_address.txt” टाइप करके एक स्क्रीनशॉट फ़ाइल में आईपी पता सहेज सकते हैं।
  • इसके बाद, आप अपने कंप्यूटर पर “ip_address.txt” नाम की फ़ाइल को खोलकर अपने आईपी पते को देख सकते हैं।
  1. कमांड प्रॉम्प्ट (मैक) का उपयोग करना:
  • “कमांड प्रॉम्प्ट” खोलें (एप्लिकेशन > यूटिलिटीज > टर्मिनल खोलें)।
  • टर्मिनल में “ifconfig” टाइप करें और एंटर दबाएँ।
  • आपका आईपी पता “inet” के नीचे “inet” के रूप में प्रदर्शित किया जाएगा।
  1. मोबाइल फोन की नेटवर्क सेटिंग्स (एंड्रॉइड और आईओएस):
  • “सेटिंग्स” पर जाएं और “वाई-फाई” या “नेटवर्क और इंटरनेट” विकल्प पर टैप करें।
  • आप अपने कनेक्शन से संबद्ध वर्तमान आईपी पता देख सकते हैं।

इन तरीकों का इस्तेमाल करके आप आसानी से अपने कंप्यूटर या मोबाइल फोन का मौजूदा आईपी एड्रेस पता कर सकते हैं। यह आपके इंटरनेट कनेक्शन की पहचान करता है और जब आप इंटरनेट पर सर्वर या वेबसाइटों से संचार करते हैं, तो यह आपको बताता है कि आप कहां से आए हैं।

IP एड्रेस की गोपनीयता और सुरक्षा | IP Address Privacy and Security

आज के डिजिटल युग में IP Address की गोपनीयता और सुरक्षा महत्वपूर्ण है, क्योंकि वे आपकी ऑनलाइन गतिविधियों की सुरक्षा को प्रभावित कर सकते हैं। आईपी एड्रेस गोपनीयता और सुरक्षा के मुख्य पहलू यहां दिए गए हैं:

  1. गोपनीयता | Privacy
  • व्यक्तिगत जानकारी की सुरक्षा: जब आप इंटरनेट पर होते हैं, तो आपका आईपी पता यह जानकारी प्रदान करता है कि आप कहां से आ रहे हैं। इसका उपयोग वेबसाइटों और ऐप्स द्वारा आपकी व्यक्तिगत जानकारी की सुरक्षा को कमजोर करने के लिए किया जा सकता है।
  • गोपनीयता सुरक्षा उपाय: आप गोपनीयता सुरक्षा सेवाओं और वीपीएन का उपयोग करके अपने आईपी पते की गोपनीयता को सुरक्षित रूप से बनाए रख सकते हैं। ये सेवाएँ आपके आईपी पते को छिपाने और आपकी ऑनलाइन गतिविधियों को छिपाने में मदद करती हैं।
  1. सुरक्षा | Security
  • साइबर हमलों से सुरक्षा: आईपी पते के अनधिकृत उपयोग से साइबर हमलों का खतरा बढ़ सकता है। हैकर्स आपके आईपी पते का उपयोग करके आपके डिवाइस तक पहुंच सकते हैं और आपकी गोपनीय जानकारी चुरा सकते हैं।
  • फ़ायरवॉल और सुरक्षा सॉफ़्टवेयर: आप अपने नेटवर्क और उपकरणों को सुरक्षित रखने के लिए फ़ायरवॉल और अच्छे सुरक्षा सॉफ़्टवेयर का उपयोग कर सकते हैं। ये आपके आईपी पते को साइबर हमलों से बचाने में मदद करते हैं।
  1. नेटवर्क सुरक्षा | Network Security
  • राउटर कॉन्फ़िगरेशन: अपने वाई-फाई राउटर की सुरक्षा सेटिंग्स को ठीक से कॉन्फ़िगर करने से आपको अपने नेटवर्क को सुरक्षित बनाने में मदद मिल सकती है। आईपी एड्रेस सुरक्षा के साथ एकतरफ़ा है।
  • नेटवर्क फ़ायरवॉल: आप अपने नेटवर्क पर फ़ायरवॉल कॉन्फ़िगर करके अनधिकृत पहुंच को रोक सकते हैं और अपने आईपी पते की सुरक्षा कर सकते हैं।
  1. IP Address का अनधिकृत उपयोग | Unauthorized Use of IP Addresses
  • IP Address का अवैध उपयोग बढ़ रहा है, जिससे अनधिकृत कार्रवाइयां हो सकती हैं, जैसे डोज़ हमले, फ़िशिंग और अन्य साइबर अपराध। आईपी एड्रेस सुरक्षा सेवाएँ ऐसे उपयोग को रोकने में मदद करती हैं।

गोपनीयता और सुरक्षा की दृष्टि से, आपके आईपी पते का सटीक और लाइव उपयोग महत्वपूर्ण है, ताकि आप ऑनलाइन गतिविधियों को सुरक्षित रूप से संचालित कर सकें और आपकी गोपनीयता सुरक्षित रहे।

आपके आईपी पते की सुरक्षा और गोपनीयता सुनिश्चित करने के लिए सुरक्षा सॉफ़्टवेयर, फ़ायरवॉल और अन्य सुरक्षा उपायों का उचित उपयोग करना महत्वपूर्ण है।

IPv4 और IPv6 मे मुख्य अंतर क्या है | What is the main difference between IPv4 and IPv6

पैरामीटरIPv4IPv6
पूरा नामInternet Protocol version 4Internet Protocol version 6
जन्म19831995
बिट्स की लंबाई32 बिट्स128 बिट्स
आईपी पतों की संख्या4.3 बिलियन (करीब)340 अनंत (अनगिनत)
विशेष खासियतेंअधिक उपयोग होने के कारण अल्लोकेटेडविशेष व्यवस्थित प्राथमिका और अनुभाग
पता दिखाने का तरीकाडेसिमल डॉट नोटेशन (उदा: 192.168.1.1)हेक्साडेसिमल कोलन नोटेशन (उदा: 2001:0db8:85a3:0000:0000:8a2e:0370:7334)
नेटवर्क डिजाइनसिंगल नेटवर्क और सबनेटिंग की आवश्यकता होती हैस्वच्छ और आसान नेटवर्क डिजाइन करने की स्वतंत्रता
नेटवर्क सुरक्षासुरक्षा कम हो सकती हैअधिक सुरक्षित और अधिक अपराधक दृष्टिकोण
मिग्रेशन कठिनाइयाँIPv4 से IPv6 पर माइग्रेट करना कठिन हो सकता हैमाइग्रेट करने के लिए प्रशासनिक छोट और आसान
भविष्य की स्थितिIPv4 अभी भी प्राय: उपयोग में हैIPv6 का वितरण बढ़ रहा है और जारी है

FAQ’s | अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. आईपी एड्रेस क्या है?

आईपी एड्रेस एक अनुक्रमित संख्या है जिसका उपयोग किसी नेटवर्क से जुड़े डिवाइस की पहचान करने के लिए किया जाता है।

2. IPv4 और IPv6 में क्या अंतर है?

IPv4 32 बिट है, जबकि IPv6 128 बिट है। IPv6 अधिक IP पतों का समर्थन करता है और इसका उपयोग गोपनीयता और सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है।

3. आईपी एड्रेस क्यों महत्वपूर्ण है?

इंटरनेट पर डेटा ट्रांसपोर्ट करने के लिए एक आईपी एड्रेस आवश्यक है, जिससे वेबसाइट और सर्वर आपके डिवाइस को पहचान सकें।

4. सार्वजनिक और निजी आईपी पते के बीच क्या अंतर है?

एक सार्वजनिक आईपी पता इंटरनेट पर दिखाई देता है, जबकि एक निजी आईपी पता आपके नेटवर्क के अंदर होता है।

5. आईपी एड्रेस को कैसे बदला जा सकता है?

आप अपने राउटर या डिवाइस के वेब डैशबोर्ड पर जाकर आईपी एड्रेस बदल सकते हैं।

6. क्या आईपी एड्रेस वायरस और मैलवेयर से बचाने में मदद करता है?

आईपी एड्रेस कंप्यूटर नेटवर्क की सुरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करता है, लेकिन यह एकमात्र सुरक्षा उपाय नहीं है।

7. IPv6 क्यों महत्वपूर्ण है?

IPv6 का उपयोग IP पतों की अधिक उपलब्धता प्रदान करने के लिए किया जाता है, क्योंकि IPv4 में सीमित संख्या में IP पते होते हैं

8. क्या किसी डिवाइस का IP पता समान हो सकता है?

हां, एक डिवाइस में निजी और सार्वजनिक दोनों आईपी पते हो सकते हैं।

9. क्या मैं अपना आईपी पता छुपा सकता हूँ?

हां, आप वीपीएन का उपयोग करके अपने आईपी पते को छुपा सकते हैं।

10. आईपी एड्रेस कैसे पता करें?

आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस की नेटवर्क सेटिंग में जाकर अपना आईपी एड्रेस देख सकते हैं।

आपने क्या सीखा?

इस ट्यूटोरियल में हमने आपको इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस के बारे में पूरी जानकारी दी है। क्या आपने सीखा कि आईपी एड्रेस क्या है? विभिन्न प्रकार के आईपी पते और अपने डिवाइस का आईपी पता कैसे खोजें? इन सभी सवालों के जवाब जान लिए हैं.

हमें उम्मीद है कि यह ट्यूटोरियल आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस ट्यूटोरियल को शेयर करके आप अपने दोस्तों को भी आईपी एड्रेस के बारे में बता सकते हैं।

इसे भी देखे : Keyboard क्या है, प्रकार,परिभाषा और इसका उपयोग

Leave a Comment